Garlic Farming in Hindi | लहसुन खेती कैसे करें उसकी संपूर्ण जानकारी एवं फायदे

नमस्कार दोस्तों Garlic Farming in Hindi में आपका स्वागत है। आज हम हम Garlic Crop Cultivation Information | लहसुन खेती की जानकारी | लहसुन की उन्नत खेती कैसे करें | लहसुन की वैज्ञानिक तरीके से खेती और लहसुन की खेती का बेहतरन तरीका बताने वाले है। लहसुन एक मसाला फसल है। उसका उपयोग खाने के साथ-साथ कई तरह की समस्याओं को दूर करने में भी किया जाता है। भारत के कई राज्यों में लहसुन की खेती होती है। मगर मुख्य रूप से गुजरात, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और तमिलनाडु राज्यों में ज्यादा होती है।

आपको बतादे की लहसुन का 50 % से अधिक उत्पादन गुजरात और मध्य प्रदेश में होता है। लहसुन एक मसाला फसल होने  कारन उसका इस्तेमाल बहुत ही ज्यादा होता है। लहसुन का उत्पादन क्षेत्र और उत्पादकता समय के साथ लगातार बढ़ रही है। फिरभी उसकी कीमत किसानो को बहुत अच्छी मिलती है। उसी हिसाब से किसानो के अच्छी कमाई करने के लिए लहसुन की खेती जरूर करनी चाहिए। 

Garlic Farming Information in Hindi

लहसुन महत्वपूर्ण बल्ब फसलों में से एक है। भारत में एक मसाले या मसाला के रूप में प्रयोग किया जाता है। लहसुन के मिश्रित बल्ब में कई छोटे बल्ब या लौंग होते हैं। वैज्ञानिक प्रयोगों से पता चला है कि लहसुन में कुछ यौगिक हृदय को काम करने में मदद करते हैं। कहा जाता है कि लहसुन में एंटीबायोटिक पदार्थ होते हैं जो कुछ बैक्टीरिया और कवक के विकास को रोकते हैं। वर्तमान समय में लहसुन की खेती बड़े फायदा का सौदा हो सकता है। उसकी खेती के लिए नवंबर महीने तक की जा सकती है। जिससे किसान अच्छा मुनाफा कमा सकता है।

Garlic Cultivation

इसके बारेमे भी पढ़िए पॉली हाउस में खेती करने की पूरी जानकारी एवं फायदे

लहसुन खाने के फायदे एवम उपयोग

  • पाचन प्रक्रिया में सुधार करता है। 
  • यौन इच्छा बढ़ाने के लिए जाना जाता है।
  • कोल्ड और फ्लू के संक्रमण से बचाता है। 
  • लहसुन का सेवन करने से पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन का खतरादूर होता है।
  • कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करता है। 
  • सर्दी, खांसी, कफ आदि समस्याओं से लहसुन जल्द आराम दिलाता है।
  • शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकालता है। 
  • पेट में कीड़े होने पर कच्चा लहसुन खाने से आराम मिलता है।
  • वजन कम करने में भी मददगार है। 
  • लहसुन का सेवन कई बीमारियों से दूर रखता है।

लहसुन के पोषक तत्व

  • एलिकिन
  • एंटीऑक्सिडेंट
  • एंटीफंगल
  • एंटीवायरल
  • विटामिन-B
  • विटामिन-C
  • सेलेनियम
  • मैगनीज
  • कैल्शियम

Garlic Farming जलवायु

लहसुन की फसल कई प्रकार की जलवायु परिस्थितियों में उगाई जाती है। मगर बहुत ठंडी या बहुत गर्म जलवायु को सहन नहीं कर सकता है। यह गर्मियों के साथ सर्दियों में भी उगाया जाता है। अत्यधिक गर्म या लंबे समय तक शुष्क रहने की अवधि बल्ब बनने के लिए अनुकूल नहीं होती है। यह एक ठंढ-कठोर पौधा है जिसे विकास के दौरान ठंडी और नम अवधि और बल्ब की परिपक्वता के दौरान अपेक्षाकृत शुष्क अवधि की आवश्यकता होती है। लहसुन के बल्बिंग गठन में 25-30°C का तापमान सबसे अच्छा कहा जाता है।

Garlic Farming images

इसके बारेमे भी पढ़िए तरबूज की खेती की जानकारी

Soil Requirement For Garlic Farming भूमि और तैयारी

लहसुन की फसल अच्छी जल निकासी वाली दोमट, ह्यूमस से भरपूर और काफी अच्छी पोटाश सामग्री वाली मिट्टी में उगती है। रेतीली या ढीली मिट्टी पर उगाई जाने वाली लहसुन की फसल की गुणवत्ता खराब होती है। और उत्पादित बल्ब वजन में हल्के होते हैं। भारी मिट्टी में उत्पन्न होने वाले लहसुन के कंद विकृत हो जाते हैं। और कटाई के समय कई बल्ब टूट जाते हैं । बल्ब बुरी तरह से फीके पड़ जाते हैं, खराब जल निकासी वाली मिट्टी। लौंग के विकास के लिए अम्लीय मिट्टी उपयुक्त नहीं होती है। 5-7 के बीच पीएच रेंज का विकास और उपज अच्छा है। मिट्टी के भुरभुरा होने तक खेत को 2-3 बार जोताई करें। और अच्छी तरह समतल करके क्यारियों और खालिया करदे।

Garlic Farming Advanced varieties उन्नत किस्में

  • यमुना सफेद (जी- 1)
  • यमुना सफेद- 2 (जी- 50)
  • एग्रीफाउण्ड व्हाइट (जी- 41
  • यमुना सफेद- 3(जी- 282)
  • यमुना सफेद- 5 (जी- 189)
  • एग्रीफाउण्ड पार्वती (जी- 313)
  • पार्वती (जी- 323)
  • जामनगर सफेद
  • गोदावरी (सेलेक्सन- 2)
  • स्वेता (सेलेक्सन- 10)
  • टी- 56-4
  • भीमा ओंकार
  • भीमा पर्पल
  • वीएल गार्लिक- 1
  • वीएल लहसुन- 2 

Garlic Farming में रोपण

लहसुन की बुवाई या प्रचार लौंग द्वारा प्रचारित किया जाता है। बल्ब के केंद्र में एक बार लंबे पतले को छोड़कर सभी लौंग लगाए जाते हैं। पार्श्व वृद्धि वाले बल्बों को त्याग दिया जाना चाहिए। रोग और चोट से मुक्त स्वस्थ लौंग या कंद बुवाई के लिए उपयोग करते है। एक हेक्टेयर रोपण के लिए लगभग 150 से 200 किलोग्राम लौंग की जरुरत होती है। उनकी बुवाई डिब्लिंग या फरो रोप कर की जाती है। 

डिबलिंग – खेत को सिंचाई के लिए सुविधाजनक छोटे भूखंडों में विभाजित किया जाता है। लौंग को 5 से 7.5 सेमी गहराई में डुबोया जा सकता है। उनके बढ़ते सिरों को ऊपर की ओर रखते हुए। उन्हें 15 सेमी की पंक्तियों में एक दूसरे से 7.5 सेमी की दूरी पर रखा जाता है। और फिर उन्हें ढीली मिट्टी से ढक दिया जाता है। जून-जुलाई और अक्टूबर-नवंबर लहसुन के लिए सामान्य रोपण मौसम हैं।

फ़रो रोपण – फ़रो को हाथ से कैसे या कपास की ड्रिल से 15 सेमी बनाया जाता है। उस खाइयों में लौंग को हाथ से 7.5 से 10 सेंटीमीटर की दूरी पर गिराया जाता है। उन्हें ढीली मिट्टी से हल्का ढक दिया जाता है। और उसके बाद हल्की सिंचाई दी जाती है।

लहसुन खेती

इसके बारेमे भी पढ़िए – अमरूद की खेती | अमरूद की बागवानी की पूरी जानकारी

Garlic Farming में सिंचाई

लहसुन के पौधों के लिए सिंचाई की आवश्यकता – रोपण की तैयारी में अगर मिट्टी में नमी पर्याप्त नहीं है। तो एक या दो दिन पहले खेत की सिंचाई करना जरुरी है। सिंचाई के बाद मिट्टी अधिक गीली हो जाती है। तो खेत को सूखने देना चाहिए जब तक कि वांछित नमी का स्तर प्राप्त न हो जाए। लहसुन प्रति पौधे औसतन 7 जड़ें पैदा करता है। चिकनी दोमट मिट्टी में जड़ें 59 सेंटीमीटर तक गहरी हो जाती हैं। वानस्पतिक विकास के दौरान जड़ क्षेत्र के भीतर पर्याप्त नमी आवश्यक है।

सिंचाई की आवृत्ति बढ़ती अवधि के दौरान मिट्टी के प्रकार और वर्षा पर निर्भर करती है। दोमट मिट्टी की तीन बार सिंचाई की जाती है। रेतीली मिट्टी को अधिक बार सिंचाई की जरुरत होती है। चिकनी दोमट मिट्टी में दरारें या दरारें दिखने पर फ्लैश सिंचाई की जा सकती है। पानी को कभी भी छह घंटे से अधिक खेत में नहीं रहने देना चाहिए। सिंचाई रोपण से पहले शुरू होती है और रोपण के 70-85 दिन बाद समाप्त होती है।

लहसुन खेती कैसे करें उसकी संपूर्ण जानकारी एवं फायदे

Garlic Farming Manures and Fertilizers

अच्छी तरह से सड़ी हुई एफवाईएम या कम्पोस्ट का 25 से 30 कार्टलोड मिट्टी की तैयारी के समय प्रति हेक्टेयर लगाया जाता है। लहसुन में पीकेवी के अनुसार अकोला सिफारिश 50 किलो एन, 50 किलो पी2ओ5 और 50 किलो के2ओ डालना चाहिए। बुवाई के एक महीने बाद 50 किग्रा n की साइड ड्रेसिंग दी जा सकती है। उसके अलावा किसान अपने खेत के भूमि परीक्षण रिपोर्ट के मुताबिक डाल सकते है।

Garlic Farming Weed control

लहसुन के खेत में खरपतवार नियंत्रण करने के लिए निराई-गुड़ाई बहुत अच्छे तरीके से करनी चाहिए। और रासायनिक खरपतवार नाशक के रूप में पेंडीमेथालिन 38.7% सीएस 700मिली/एकड़ की दर से बुवाई के बाद छिड़काव करके फिर सिंचाई करे। खड़ी फसल में सकरी और चौड़ी पत्ती के खरपतवार के नाश के लिए प्रोपाकुइज़ाफाप 5% + ऑक्सीफ्लोरोफ़ेन 12% w/w ईसी 1-1.5 मिली/ लीटर पानी से छिड़काव करे।

Garlic Farming Photos

इसके बारेमे भी पढ़िए – खुबानी फल की खेती कैसे करे

पौधे की देखभाल और रोग नियंत्रण

लहसुन उत्पादन में कीट एवं रोग नियंत्रण
थ्रिप्स
(थ्रिप्स सपा।) –

यह छोटे और वयस्क दोनों पौधे को खाते हैं। ये पौधे के रस को छोटी पत्तियों से लेकर बढ़ते स्थानों तक चूसते हैं। पुराने पत्ते मुरझा जाते हैं या दिखने में फट जाते हैं।

नियंत्रण

थ्रिप्स की आबादी या थ्रिप्स के प्रकोप वाले क्षेत्रों में अक्टूबर में जल्दी रोपण किया जाता है। संक्रमित पत्तियों को जलाना और मैलाथियान, फाइप्रोनिल, एथियोन जैसे रसायनों का छिड़काव जरूरी हैं।

भंडारण कीट – भंडारण में रखे लहसुन को कीट सूडी खाकर नुकसान पहुचाती है। 

नियंत्रण – उसके नियंत्रण के लिए 1 से 4 गोली फास्फीन प्रति घनमीटर के हिसाब से धुम्रक करने से कीट पर नियंत्रण आ सकता है।

चैपा (एफिड)- यह पौधे से रस चूसता और उससे पौधा कमजोर हो जाता है। 

नियंत्रण – उसके नियंत्रण के लिए एण्डोसल्फान 2 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए। 

माइट्स (एसेरिया ट्यूलिपे) –

कीट या तो बीज-जनित या मल्च-जनित होता है। प्रभावित पौधे मुड़ जाते हैं और पत्तियों पर पीले या हल्के हरे रंग की धारियों के साथ विकृत होते हैं।
नियंत्रण

बीजों के पीस उपचार के लिए घुन के नियंत्रण के लिए रसायनों का प्रयोग करें। संक्रमण के लिए, अनुशंसित रसायनों को संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर छिड़काव करे।

लहसुन की कटाई और उपज

लहसुन की फसल 3-4 महीने में तेयार हो जाती है। जब पत्ते पीले या भूरे रंग के होने लगते हैं और सूखने के लक्षण दिखाते हैं। उस समय बीज के डंठल के उभरके ऊपर दिखाई देते है। तो फसल कटाई के लिए तैयार होती है। पौधों को देशी हल से उखाड़ दिया जाता है और बांध दिया जाता है। छोटे बंडलों सुखाने के लिए रखा जाता है जिससे बल्ब सख्त हो जाएं और गुणवत्ता लंबे समय तक बनी रहती है। बल्बों को बांस की छड़ियों पर या सूखे फर्श पर एक हवादार कमरे में फर्श पर सूखी रेत पर रखने से लहसुन में 50 से 70 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज प्राप्त होती है।

garlic images

इसके बारेमे भी पढ़िए – गाजर की खेती कैसे करें

Garlic Farming Video

Interesting Fact

  • लहसुन में प्रोटीन, फास्फोरस और पोटेशियम जैसे स्त्रोत पाए जाते हैं।
  • मानव रक्त में कोलेस्ट्रोल की मात्रा को कम करता है।
  • लहसुन का उपयोग अचार, चटनी, केचप व सब्जी बनाने में होता है। 
  • लहसुन की खेती किसी भी प्रकार की भूमि में कर सकते है। 
  • वैज्ञानिक तरीके से लहसुन की खेती करने से कम खर्च में अच्छा फायदा ले सकते है।
  • लहसुन की फसल 3-4 महीने में तेयार हो जाती है।
  • भूमि और फसल की अच्छी देखभाल करे तो प्रति हेक्टेयर  80 से 120 क्विंटल उपज मिलती है।
  • लहसुन की उन्नत किस्मों से 125 से 225 किवन्टल प्रति हेक्टर पैदावार होती है।

FAQ

Q .लहसुन की बुवाई कब करें?

लहसुन की बुवाई का अच्छा समय ऑक्टोबर से नवम्बर का होता है।

Q .लहसुन की खेती में क्या डालें?

एक हेक्टेयर खेत में 100 किलो ग्राम नाइट्रोजन, 50 किलो फास्फोरस, पोटाश और सल्फर डालना चाहिए। 

Q .लहसुन में कौन कौन सा खाद डालना चाहिए?

100 किलो ग्राम नाइट्रोजन
50 किलो फास्फोरस
पोटाश
सल्फर

Q .1 एकड़ में लहसुन की कितनी पैदावार होती है?

एक एकड़ में खेती करने पर उत्पादन करीब 50 क्विंटल तक होता है। 

Q .कच्चा लहसुन खाने के क्या फायदे?

पाचन प्रक्रिया में सुधार
कोल्ड, फ्लू के संक्रमण से बचाना
कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रण
टॉक्सिन्स को बाहर निकालन
वजन कम करना 

Q .रात को लहसुन खाने से क्या फायदा?

रात में सोते समय लहसुन खाने से मच्छर और मक्खी दूर रहते हैं। 

Q .एक दिन में कितना लहसुन खाना चाहिए?

कच्चे लहसुन की 4 ग्राम यानी एक से दो कलियां ही खानी चाहिए।

Conclusion

आपको मेरा Garlic Farming | Garlic cultivation बहुत अच्छी तरह से समज आया होगा। 

लेख के जरिये हमने Garlic farming in india, Garlic plant और Farming of Garlic in Hindi से सम्बंधित जानकारी दी है।

अगर आपको अन्य किसी खेत उत्पादन के बारे में जानना चाहते है। तो कमेंट करके जरूर बता सकते है।

Note

आपके पास Organic garlic farming, Garlic nutrition या lahsun ki kheti की कोई जानकारी हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो दिए गए सवालों के जवाब आपको पता है। तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इसे अपडेट करते रहेंगे धन्यवाद।

Google Search

Garlic farming profit per acre in india, Garlic farming in maharashtra, wight, Garlic clove, how to eat garlic, side effects of garlic, raw garlic benefits, uses of garlic, Garlic benefits for men, Garlic pills benefits, Garlic farming in gujarat, Garlic farming pdf, Garlic, farming in pakistan, commercial garlic farming, ginger farming

Garlic farming in nigeria, Garlic farming business plan, Garlic farming canada, Garlic farming equipment, elephant garlic farming, pyaj, onion, cabbage, tomato, Garlic bread, carrot  

लहसुन की दवा, लहसुन कब नहीं खाना चाहिए, लहसुन का फूल, पुरुषों के लिए कच्चे लहसुन खाने का लाभ, शहद और लहसुन के फायदे, लहसुन की जैविक खेती, रात को सोने से पहले लहसुन खाने के फायदे, लहसुन का स्वभाव, लहसुन की अगेती खेती

लहसुन फूलने की दवा, लहसुन में पोटाश कब देना चाहिए, लहसुन की खेती से कमाई, लहसुन का बीज कहां से खरीदें, लहसुन की खेती pdf, लहसुन की खेती मध्यप्रदेश, 1 एकड़ में लहसुन का उत्पादन कितना होता है

इसके बारेमे भी पढ़िए – हेल्थ कार्ड कैसे बनायें

Leave a Reply

Your email address will not be published.